बिंदिया टिप्स

शायद ही कोई हो जिसके पास ट्रेन की यादें न हों। नानी के घर, मौसी या चाचा की शादी, घर से पहली बार हॉस्टल की आजादी, नौकरी के लिए कोई नया शहर। सभी जगह तो ट्रेन साथ रही। सामान लादा और चल पड़े। यात्रा का जो रोमांच है वह शायद ही ट्रेन के रोमांस बिना पूरा हो। हमारी मानिए तो इन छुट्टियों में स्पेशल ट्रेन की यात्रा का आनंद लीजिए। पहाड़ों वाली छुक-छुक गाड़ी की सैर करके। 

शायद ही कोई हो जिसके पास ट्रेन की यादें न हों। नानी के घर, मौसी या चाचा की शादी, घर से पहली बार हॉस्टल की आजादी, नौकरी के लिए कोई नया शहर। सभी जगह तो ट्रेन साथ रही। सामान लादा और चल पड़े। यात्रा का जो रोमांच है वह शायद ही ट्रेन के रोमांस बिना पूरा हो। हमारी मानिए तो इन छुट्टियों में स्पेशल ट्रेन की यात्रा का आनंद लीजिए। पहाड़ों वाली छुक-छुक गाड़ी की सैर करके। 

‘अच्छे दिन आने वाले हैं’ के नारे के साथ भाजपा सरकार ने देश की बागडोर को अपने हाथ में ले लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ४५ सदस्यीय मंत्रिमंडल में पहली बार छह महिला कैबिनेट मंत्री और एक राज्यमंत्री, यानी कुल सात महिलाओं को स्थान मिला है। मंत्रिमंडल में पैंतालीस में केवल सात महिलाओं के होने भर से अखबारों के हेडलाईन में मोदी के मंत्रिमंडल में महिला शक्ति से लैस होने की बात को प्रमुखता से उजागर किया गया है।

जैसे-जैसे बच्चे आत्मनिर्भर होते चले जाते हैं, पूरे वक्त उन बच्चों का ख्याल रखने में व्यस्त रहने वाली मां के पास अचानक ही बहुत अधिक खाली वक्त हो जाता है। ऐसी स्थिति में उन्हें अपने पति से अधिक मदद व समय की जरूरत होती है। ऐसा संभव न हो पाने की स्थिति में निराशा और चिड़चिड़ापन बढ़ने लग जाता है, परिणामस्वरूप वैवाहिक जीवन में कलह की शुरुआत हो जाती है। ऐसे में जरूरी है कि कुछ समय मिलकर बिताएं और परेशानियों पर गौर करें, टहलना, व्यायाम या अध्ययन जैसी तनाव से राहत दिलाने वाली गतिविधियों में हिस्सा लें। यह भी जरूरी है कि अगर दूसरा साथी कोई नई परियोजना या अपनी शौक की शुरुआत करना चाह रहा हो तो इसमें मददगार बनें।

कश्मीर है ही इतना खूबसूरत और उससे भी ज्यादा वहां के लोग और उनके स्वागत का तरीका। एक बारगी वहां जा कर मन ये भूल जाता है कि कुछ देश इस जन्नत को नरक बनाने का सपना देखते हैं।